NHPC signs MOU with Govt. of Himachal Pradesh for execution of 449 MW Dugar H.E. Project

Sarkaritel
By Sarkaritel September 27, 2019 05:22


An MoU was signed for execution of 449 MW Dugar H.E. Project located in Chamba District between NHPC & Govt. of Himachal Pradesh. The MoU was signed by CMD, NHPC & Principal Secretary (MPP & Power), Govt. of Himachal Pradesh at Shimla on 25.09.2019 in the august presence of Honorable Chief Minister of Himachal Pradesh. The Project is a run of the river scheme on Chenab River and the estimated present day cost of the project is 4112 Crores. The Project will generate 1610 MU in a 90% dependable year with 95% machine availability.

The Project achieved financial viability through concessions by state govt. in terms of deferment of free power and 50% SGST reimbursement and through policy measures by Central Govt. viz increased life of project (40 Years), longer loan repayment period of 18 years and deduction of the cost of enabling infrastructure development costs and construction period optimization by NHPC. The State will benefit by way of free power, Local area development and employment opportunity for Himachalis. The project will bring all round development and prosperity in the project vicinity.


एनएचपीसी लिमिटेड और हिमाचल प्रदेश सरकार के बीच 449 मेगावाट डूगर जल विद्युत परियोजना के
निष्पादन 
हेतु समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

 

एनएचपीसी लिमिटेड और हिमाचल प्रदेश सरकार के बीच चंबा जिले में स्थित 449 मेगावाट की डूगर जल विद्युत  परियोजना के निष्पादन के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया है। हिमाचल प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर की उपस्थिति में इस समझौता ज्ञापन पर श्री बलराज जोशी, अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक, एनएचपीसी और प्रमुख सचिव (एमपीपी एंड पावर), हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा शिमला में 25 सितंबर 2019 को हस्ताक्षर किए गए।

डूगर जल विद्युत परियोजना चिनाब नदी पर बहते पानी की योजना (रन ऑफ द रिवर स्कीम) है। परियोजना की अनुमानित वर्तमान लागत 4112 करोड़ रूपए है। यह परियोजना 90% आश्रित वर्ष में 95% मशीन की उपलब्धता के साथ 1610 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पन्न करेगी। केन्द्रीय सरकार के नीतिगत उपाय जैसे परियोजना के जीवन में वृद्धि (40 वर्ष), 18 वर्ष की लंबी ऋण चुकौती अवधि, अवसंरचना विकास लागत को सक्षम करने की लागत में कटौती और निर्माण अवधि के अनुकूलन एवं राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क विद्युत को टालने एवं 50% एसजीएसटी प्रतिपूर्ति जैसे रियायत की वजह से इस परियोजना ने वित्तीय व्यवहार्यता हासिल की है। इस परियोजना से हिमाचल प्रदेश राज्य को मुफ्त बिजली, स्थानीय क्षेत्र विकास और रोजगार के अवसर से लाभ प्राप्त होगा। यह परियोजना आसपास के क्षेत्र में सर्वांगीण विकास और समृद्धि लाएगी।

Sarkaritel
By Sarkaritel September 27, 2019 05:22

Search the Website

Advertiser’s Logos

Water Conservation

जब कभी आप वाशिंग मशीन में कपड़े धोने जाते हैं, तो ऐसे वक्त वाशिंग मशीन के पूरे लिमिट का इस्तेमाल करें। उन में जितने कपड़ों को एक टाइम पर धोया जा सकता है उतने कपड़ों को धोए।

Sarkaritel.com Interview with U P Singh (IAS), Secretary, Ministry of Jal Shakti & Drinking Water & Sanitation by Ameya Sathaye, Publisher & Editor-in-Chief, Sarkaritel.com

HEALTH PARTNER