RailTel to execute two projects of DRDO pertaining to Data Centre management and cloud services

Sarkaritel
By Sarkaritel May 31, 2022 15:51

RailTel to execute two projects of DRDO pertaining to Data Centre management and cloud services


Both projects together are valued at Rs. 54.11 Crore (excluding GST) which becomes Rs. 68.86 Cr.(including GST) 

One project is for Supply, Installation & Commissioning for Enhancement of Data Centre & Its Networking Infrastructure. This work order is valued at ₹ 22.77 Crore (excluding GST) which after including GST amounts to ₹ 26.87Crore (including GST).This project is aimed to upgrade the Data Centre at DRDO HQ, New Delhi to bring up a world class facility. 

Second project is for “Supply, Installation & Commissioning of DRDO On-premise CLOUD Services”. This second work order is valued at ₹ 31.34 Crore (excluding GST) which after including GST amounts to ₹ 36.99 Crore (including GST). The scope of workhere entails turnkey solution for deploying a DRDO Cloud over their wide area network to cater to the needs of DRDO community for various needful IT services. 

Securing these prestigious projects from DRDO is an endorsement of RailTel’s key position in the domestic IT space based on its strong technology expertise, process excellence and superior execution capabilities: Mrs.Aruna Singh,CMD, RailTel.

New Delhi, May 31 : RailTel Corporation of India Limited, a CPSU under Ministry of Railways has bagged two separate orders pertaining to Data Centre management and cloud services both together amounting to Rs. 54.11 Crore (excluding GST) which becomes Rs. 68.86 Cr.(including GST) from the Defence Research & Development Organisation (DRDO), Ministry of Defence.

One order is for “Supply, Installation & Commissioning for Enhancement of Data Centre & Its Networking Infrastructure”. This work order is valued at ₹ 22.77 Crore (excluding GST) which after including GST amounts to ₹ 26.87Crore (including GST).

Second order is forfor “Supply, Installation & Commissioning of DRDO On-premise CLOUD Services”. This second work order is valued at ₹ 31.34 Crore (excluding GST) which after including GST amounts to ₹ 36.99 Crore (including GST).

First order :

Under this order, thescope of work entails turnkey solution for enhancing the data centre & its networking infrastructure to cater to the needs of future & enhanced IT needs. This project is specifically focussed to enhance the IT/Non-IT/Networking Infrastructure to facilitate the deployment of Cloud Services for entire DRDO community. It will also help in setting up of Security Operation Centre (SOC). This project will safeguard the huge data, ensure uninterrupted services & future planning of new application and operational requirements. This project is aimed to upgrade the DC at DRDO HQ, New Delhi to bring up a world class facility.

DRDO Data Centre is envisioned as the ‘shared, reliable and secure infrastructure services centre for hosting and managing the IT services of DRDO Community. After up gradation, Data Centre would provide many functionalities like Central Repository, Secure Data Storage, Online Delivery of Services, IT Services Portal, Disaster Recovery, Remote Management and Service Integration. It would facilitate secure, reliable and efficient delivery of IT services thereby improving end-user satisfaction. Disaster Recovery (DR) services are required to prevent either man-made or natural disasters from causing expensive service disruptions.

Second Order:

Under this order, the scope of work entails turnkey solution for deploying a DRDO Cloud overtheir wide area network to cater to the needs of DRDO community for various needful IT services.

DRDO decided to migrate to new scalable hardware platform by creating DRDO CLOUD to provision for storage space, hosting of new application and distributed computer resources. It will benefit the organization to perform day-to-day activities smoothly. It will help in the efficient utilisation of resources with centralised management & monitoring.

Talking about it, Aruna Singh Chairman & Managing Director RailTel said, “RailTel has established itself as a prominent Information and Communication Technology (ICT) provider and as one of the largest neutral telecom infrastructure providers in the country. Securing these prestigious projects from DRDO is an endorsement of RailTel’s key position in the domestic IT space based on its strong technology expertise, process excellence and superior execution capabilities. With this, RailTel is well- positioned to win other Ministries, Central Govt. & State Govt. Data Centres & cloud service projects as well”.


रेलटेल डेटा सेंटर प्रबंधन और क्लाउड सेवाओं से संबंधित डीआरडीओ की दो अलगअलग परियोजनाओं को निष्पादित करेगा।

दोनों परियोजनाओं का एक साथ मूल्य रु. 54.11 करोड़ (जीएसटी को छोड़करहै जो जीएसटी शामिल करने के बाद  रु 68.86 करोड़ (जीएसटी सहितहो गया है।

एक परियोजनाडाटा सेंटर और इसके नेटवर्किंग इन्फ्रास्ट्रक्चर के संवर्धन के लिए आपूर्तिस्थापना और कमीशनिंग के लिए है। इस कार्य आदेश का मूल्य ₹ 22.77 करोड़ (जीएसटी को छोड़करहै जो जीएसटी को शामिल करने के बाद ₹ 26.87 करोड़ (जीएसटी सहितहो गया है। इस परियोजना का उद्देश्य डीआरडीओ मुख्यालयनई दिल्ली में  स्तिथ डेटा सेंटर को विश्व स्तर की सुविधा लाने के लिए अपग्रेड करना है।

दूसरी परियोजना, “डीआरडीओ ऑनप्रिमाइसेस क्लाउड सेवाओं की आपूर्तिस्थापना और कमीशनिंग” के लिए है। इस दूसरे कार्य आदेश का मूल्य ₹ 31.34 करोड़ (जीएसटी को छोड़करहै जो जीएसटी को शामिल करने के बाद ₹ 36.99 करोड़ (जीएसटी सहितहो गया है। इस परियोजना के काम के दायरे में विभिन्न आवश्यक आईटी सेवाओं के लिए डीआरडीओ समुदाय की जरूरतों को पूरा करने के लिए डीआरडीओ क्लाउड को उनके वाइड एरिया नेटवर्क  पर तैनात करने के लिए टर्नकी समाधान शामिल है।

डीआरडीओ से इन प्रतिष्ठित परियोजनाओं को हासिल करना घरेलू आईटी क्षेत्र में रेलटेल की मजबूत प्रौद्योगिकी विशेषज्ञताप्रक्रिया उत्कृष्टता और बेहतर  निष्पादन क्षमताओं के आधार पर महत्वपूर्ण स्थिति को प्रदर्शित करता हैश्रीमती अरुणा सिंहसीएमडीरेलटेल।

******

रेलटेल कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, जो रेल मंत्रालय के तहत एक सीपीएसयू हैको रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ), रक्षा मंत्रालय सेउनकेडेटा सेंटर प्रबंधन और क्लाउड सेवाओं से संबंधित दो अलग- अलग ऑर्डर मिले हैं, दोनों को मिलाकर जिनकी लागत रु 54.11 करोड़ (जीएसटी को छोड़कर) है जो जीएसटी शामिल करने के बाद रु 68.86 करोड़ (जीएसटी सहित) हो जाती है।

एक आदेश, “डेटा सेंटर और उसके नेटवर्किंग इन्फ्रास्ट्रक्चर के संवर्धन के लिए आपूर्ति, स्थापना और कमीशनिंग” के लिए है। इस कार्य आदेश का मूल्य ₹ 22.77 करोड़ (जीएसटी को छोड़कर) है जो जीएसटी को शामिल करने के बाद ₹  26.87 करोड़ (जीएसटी सहित) हो जाता है।

दूसरा आदेश, “डीआरडीओ ऑन-प्रिमाइसेस क्लाउड सेवाओं की आपूर्ति, स्थापना और कमीशनिंग” के लिए है।  इस दूसरे कार्य आदेश का मूल्य ₹ 31.34 करोड़ (जीएसटी को छोड़कर) है जो जीएसटी को शामिल करने के बाद ₹ 36.99 करोड़ (जीएसटी सहित) हो गया है।  

प्रथम आदेश :

इस आदेश के तहत, कार्य के दायरे में भविष्य की जरूरतों और बढ़ी हुई आईटी जरूरतों को पूरा करने के लिए डेटा सेंटर और इसके  नेटवर्किंग बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए टर्नकी समाधान शामिल है। यह परियोजना विशेष रूप से संपूर्ण डीआरडीओ समुदाय के लिए  क्लाउड सेवाओं की तैनाती की सुविधा के लिए आईटी/गैर-आईटी/नेटवर्किंग बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए केंद्रित है। यह सुरक्षा संचालन केंद्र (एसओसी) की स्थापना के लिए भी है।यह परियोजना विशाल डेटा की सुरक्षा करेगी, निर्बाध सेवाएं सुनिश्चित करेगी और नए एप्लिकेशन और परिचालन आवश्यकताओं की भविष्य की योजना बना सकेगी। इस परियोजना उद्देश्य डीआरडीओ मुख्यालय,  नई दिल्ली में स्तिथ डेटा सेंटर को विश्व स्तर की सुविधा  तक लाने लिए अपग्रेड करना है।

डीआरडीओ डेटा सेंटर को डीआरडीओ समुदाय की आईटी सेवाओं की मेजबानी और प्रबंधन के लिए ‘साझा, विश्वसनीय और सुरक्षित बुनियादी ढांचा सेवा केंद्र’ के रूप में परिकल्पित किया गया है। अपग्रेडेशन के बाद, डाटा सेंटर सेंट्रल रिपोजिटरी, सिक्योर डाटा स्टोरेज, सेवाओं की ऑनलाइन डिलीवरी, आईटी सर्विसेज पोर्टल, डिजास्टर रिकवरी, रिमोट मैनेजमेंट और सर्विस इंटीग्रेशन जैसी कई कार्यात्मकताएं प्रदान करेगा।

यह आईटी सेवाओं के सुरक्षित, विश्वसनीय और कुशल वितरण की सुविधा प्रदान करेगा जिससे अंतिम उपयोगकर्ता संतुष्टि में सुधार होगा। मानव निर्मित या प्राकृतिक आपदाओं की वजह से महंगा सेवा व्यवधान ना हो, उसको रोकने के लिए डिजास्टर रिकवरी (डीआर) सेवाओं की आवश्यकता होती है ।

द्वितीय  आदेश

इस आदेश के तहत, काम के दायरे में विभिन्न आवश्यक आईटी सेवाओं के लिए डीआरडीओ समुदाय की जरूरतों को पूरा करने के लिए डीआरडीओ क्लाउड को उनके वाइड एरिया नेटवर्क  पर तैनात करने के लिए टर्नकी समाधान शामिल है।

डीआरडीओ ने भंडारण स्थान, नए एप्लिकेशन की मेजबानी और वितरित कंप्यूटर संसाधनों के प्रावधान के लिए डीआरडीओ क्लाउड बनाकर नए स्केलेबल हार्डवेयर प्लेटफॉर्म पर माइग्रेट करने का निर्णय लिया है। इससे संस्था को दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को सुचारू रूप से करने में मदद मिलेगी।

साथ ही यह केंद्रीकृत प्रबंधन और निगरानी के साथ संसाधनों के कुशल उपयोग में मदद करेगा।

इसके बारे में बात करते हुएश्रीमती अरुणा सिंह अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक रेलटेल ने कहा, “रेलटेल ने खुद को एक प्रमुख सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) प्रदाता के रूप में और देश में सबसे बड़े तटस्थ दूरसंचार अवसंरचना प्रदाताओं में से एक के रूप में स्थापित किया है।

डीआरडीओ से इन प्रतिष्ठित परियोजनाओं को हासिल करना घरेलू आईटी क्षेत्र में रेलटेल की मजबूत प्रौद्योगिकी विशेषज्ञता, प्रक्रिया उत्कृष्टता और बेहतर निष्पादन क्षमताओं के आधार पर महत्वपूर्ण स्थिति को प्रदर्शित करता है।

इन कार्य आदेशों के प्राप्त  करने के बाद, रेलटेल केंद्र सरकार के अन्य मंत्रालयों और राज्य सरकार से ऐसे ही अन्य डेटा सेंटर और क्लाउड सर्विस प्रोजेक्ट को जीतने के लिए अच्छी स्थिति में है।”

Sarkaritel
By Sarkaritel May 31, 2022 15:51