NHPC signs MoU with IREDA

Sarkaritel
By Sarkaritel January 9, 2021 05:30


With a view to expand NHPC’s Renewable Energy Projects footprint in the country, a Memorandum of Understanding was signed on 08.01.2021 through Video Conferencing between NHPC Limited and Indian Renewable Energy Development Agency Ltd. (IREDA). The MOU was signed by Shri Abhay Kumar Singh, CMD, NHPC on behalf of NHPC Limited and Shri Pradip Kumar Das, CMD, IREDA on behalf of IREDA. The occasion was graced by Director (Technical), Director (Finance) and Director (Projects) from NHPC and Director (Technical) from IREDA.

In line with Hon’ble Prime Minister’s vision of development of 175 GW of Renewable Energy by 2022 and “Aatmanirbhar Bharat” NHPC has undertaken an ambitious plan to make a significant imprint on RE landscape of the country through development of 7.5 GW of Renewable Energy (Solar-Terrestrial & Floating and Wind) in the next three years. Towards achieving this objective, NHPC has already successfully commissioned renewable  capacity of 102.5 MW (Solar-Terrestrial & Rooftop and Wind) on ownership basis and has contracted 2000 MW as Intermediary Procurer basis (Facilitator Mode) at one of the most competitive tariff with planned commissioning by 2021.

Besides 155 MW Solar-Terrestrial & Floating capacity is under final stages of award and another 2.9 GW of Solar Capacity (Floating 500 MW and 2400 MW Solar-Terrestrial) are under various stages of development. The geographical spread of these projects is pan India.

Signing of MOU heralds a transformational opportunity for NHPC AND IREDA to work together forming a perfect synergy between both the organisations. IREDA shall undertake techno-financial due diligence of renewable energy & energy efficiency / conservation projects for NHPC. It will also serve to facilitate knowledge and technology transfer and provide consultancy & research services, which will contribute to driving sustainable development of the country.


एनएचपीसी द्वारा इरेडा के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर    

देश में एनएचपीसी की नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं के विस्तार के उद्देश्य से एनएचपीसी लिमिटेड और भारतीय अक्षय ऊर्जा विकास संस्था लिमिटेड (इरेडा) के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दिनांक 08.01.2021 को समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए ।  एनएचपीसी लिमिटेड की ओर से श्री अभय कुमार सिंहसीएमडीएनएचपीसी और इरेडा की ओर से श्री प्रदीप कुमार दाससीएमडीइरेडा ने  इस समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए । इस अवसर पर एनएचपीसी सेनिदेशक (तकनीकी)निदेशक (वित्त) और निदेशक (परियोजनाएं) तथा इरेडा से निदेशक (तकनीकी)  की गरिमापूर्ण उपस्थिति रही । 

माननीय प्रधानमंत्री के 2022 तक नवीकरणीय ऊर्जा के 175 गीगावाट विकास और “आत्मनिर्भर भारत” के विज़न के अनुसारएनएचपीसी ने अगले तीन वर्षों में नवीकरणीय ऊर्जा (सोलर-टेरेस्ट्रियल एवं फ्लोटिंग व पवन) के 7.5 गीगावाट के विकास के लिए देश के नवीकरणीय ऊर्जा परिदृश्य पर प्रभावी एंव महत्वाकांक्षी योजना बनाई है । इस उद्देश्य को प्राप्त करने के लिएएनएचपीसी ने अब तक स्वामित्व आधार पर 102.5 मेगावाट (सोलर-टेरेस्ट्रियलरूफ टॉप  और पवन) की नवीकरणीय क्षमता को सफलतापूर्वक कमीशन किया है और 2000 मेगावाट की परियोजनाओं का मध्यवर्ती प्रोक्योरर आधार (फैसिलिटेटर मोड) पर सबसे अधिक प्रतिस्पर्धी टैरिफ पर अनुबंध किया है और इन परियोजनों का निर्माण 2021 तक योजनाबद्ध है।  

इसके अतिरिक्त, 155 मेगावाट  की सोलर-टेरेस्ट्रियल एवं फ्लोटिंग क्षमता का कार्य अवार्ड के अंतिम चरण में है और अन्य 2.9 गीगावॉट की सौर क्षमता (फ्लोटिंग 500 मेगावाट और 2400 मेगावाट सोलर-टेरेस्ट्रियल) विकास के विभिन्न चरणों में हैं । ये परियोजनाएं पूरे भारत में स्थित हैं । 

दोनों संगठनों के बीच एक उचित सामंजस्य बनाकर कार्य करने हेतु एनएचपीसी और इरेडा के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करना एक परिवर्तनकारी अवसर है । इरेडाएनएचपीसी की नवीकरणीय ऊर्जा और ऊर्जा दक्षता / संरक्षण परियोजनाओं के लिए टेक्नो-कमर्शियल ड्यू डिलिजेन्स करेगा । यह समझौता ज्ञापन तकनीकी जानकारी और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण को सुविधाजनक बनाने और परामर्श और अनुसंधान सेवाएं प्रदान करने के लिए कार्य करते हुए देश के सतत विकास में योगदान देगा ।

Sarkaritel
By Sarkaritel January 9, 2021 05:30