Inauguration of remote sensing and GIS lab at NHPC

Sarkaritel
By Sarkaritel January 14, 2021 17:54

Inauguration of remote sensing and GIS lab at NHPC


A ‘Remote Sensing and GIS Laboratory’ was inaugurated via video conferencing at Corporate Office of NHPC, India’s premier hydropower company by Shri A.K. Singh, CMD, NHPC in presence of all directors and senior officers on 14th January 2021. Speaking on the occasion, Shri A.K. Singh said that NHPC has always been committed to the use of modern technologies and this laboratory also shows our corporation’s commitment towards environment and will enable NHPC to monitor and study the environment more effectively through satellite images. 

This remote sensing laboratory has been established by the Environment and Diversity Management Division of NHPC. The laboratory has been started with the objective of continuously monitoring the environment of all NHPC projects and also carry out research and development work through this medium. Remote sensing is an advanced technique through which the earth’s surface and resources are studied by scientific method without any physical contact. The inauguration was conducted through video conferencing keeping in view the conditions of Covid-19.


एनएचपीसी में रिमोट सेंसिंग तथा जीआईएस प्रयोगशाला का उद्घाटन

भारत की अग्रणी जलविद्युत कम्पनी, एनएचपीसी के निगम मुख्यालय में 14 जनवरी 2021 को श्री ए.के. सिंह, सीएमडी, एनएचपीसी द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ‘रिमोट सेंसिंग तथा जीआईएस प्रयोगशाला’ का उद्घाटन सभी निदेशकगणों और वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में किया गया। इस अवसर पर श्री ए.के. सिंह ने कहा कि एनएचपीसी आधुनिक तकनीकों के प्रयोग के लिये हमेशा प्रतिबद्ध रहा है और यह प्रयोगशाला हमारे निगम की पर्यावरण के प्रति प्रतिबद्धता को भी प्रदर्शित करती है तथा एनएचपीसी में उपग्रह चित्रों के माध्यम से  पर्यावरण की बेहतर मॉनिटरिंग  और अध्ययन संभव हो सकेगा।

इस रिमोट सेंसिंग प्रयोगशाला की स्थापना एनएचपीसी के पर्यावरण एवं विविधता प्रबंधन विभाग द्वारा की गई है।  इसे आरम्भ किये जाने का उद्देश्य एनएचपीसी की सभी परियोजनाओं के पर्यावरण पर सतत निगरानी रखना है साथ ही इस माध्यम से रिसर्च और डेवलपमेंट कार्यों को आगे बढाना है। रिमोट सेंसिंग एक ऐसी उन्नत तकनीक है जिसके माध्यम से बिना किसी व्यक्तिगत सम्पर्क के पृथ्वी के धरातलीय रूपों और संसाधनों का अध्ययन, वैज्ञानिक विधि से किया जाता है। कोविड-19 की परिस्थितियों के देखते हुए यह कार्यक्रम विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सम्पन्न हुआ।

Sarkaritel
By Sarkaritel January 14, 2021 17:54

Search the Website

Advertiser’s Logos

Water Conservation

जब हम पानी को सब्जी पकाने के लिए इस्तेमाल करते हैं, तो हमें उतना ही पानी इस्तेमाल करना चाहिए जितने पानी की हमें जरूरत है।

Sarkaritel.com Interview with U P Singh (IAS), Secretary, Ministry of Jal Shakti & Drinking Water & Sanitation by Ameya Sathaye, Publisher & Editor-in-Chief, Sarkaritel.com

HEALTH PARTNER