HPCL collaborates with District Administration Ranchi for ‘Plastic Free Ranchi’

Sarkaritel
By Sarkaritel October 10, 2019 13:31


HPCL has collaborated with District Administration Ranchi for ‘Plastic Free Ranchi’ by involving more than three lakhs School Children as part of Swachhta Hi Seva (SHS) 2019, a Jan Andolan for Swachhta being celebrated across the Country, from 11thSeptember to 27th October 2019.

Swachhta Hi Sewa(SHS) is being celebrated every year since 2017 to generate awareness and sensitize masses on the importance of cleanliness and their responsibility towards clean India.

Under a joint initiative with District Administration Ranchi, a unique youth centric large scale sensitization program for School Children was undertaken which included Shramdaan for the collection of Plastic Waste, Tree plantation drives, Spot Quiz and Drawing Competitions.

To propagate ‘Say No to Plastic’ movement winners of the competitions were awarded with Metal bottles and Cloth Bags along with other appreciations. More than 10000 trees were planted in Government Schools on this day to make Ranchi Green.

On this occasion, Deputy Commissioner, Ranchi exhorted students to actively contribute to make Ranchi Plastic Free and also appreciated the efforts of HPCL for supporting the cause of Plastic Free Ranchi.


एचपीसीएल ने जिला प्रशासन रांची के साथ “प्लास्टिक मुक्त रांची” के लिए सहयोग किया

एचपीसीएल ने जिला प्रशासन रांची के साथ देश भर में 11 सितम्बर से 27 अक्तूबर 2019 तक स्वच्छता ही सेवा (एसएचएस) 2019, नामक स्वच्छता हेतु मनाए जा रहे जन आंदोलन के भाग के रूप में तीन लाख से अधिक स्कूली बच्चों को समाहित करते हुए “प्लास्टिक मुक्त रांची” के लिए सहयोग किया है।

स्वच्छता ही सेवा  (एसएचएस) वर्ष 2017 से प्रतिवर्ष लोगों में स्वच्छता के महत्व के प्रति जागरूकता फैलाने और स्वच्छ भारत के जरिए उनकी ज़िम्मेदारी के प्रति संवेदनशील बनाने हेतु मनाया जाता है।

जिला प्रशासन रांची के साथ संयुक्त पहल के रूप में, स्कूल के छात्रों के लिए बड़े स्तर पर एक युवा केन्द्रित संवेदनशील कार्यक्रम शुरू किया गया जिसमें प्लास्टिक अपशिष्ट के संग्रहण हेतु श्रमदान, वृक्षारोपण अभियान, स्पॉट क्विज और चित्रकला प्रतियोगिताएं शामिल हैं।

“प्लास्टिक को ना कहें” अभियान को प्रचारित करने हेतु प्रतियोगिताओं में विजेताओं को अन्य प्रशंसाओं सहित मेटल बोतल तथा कपड़े की बैग से पुरस्कृत किया गया। रांची को हरित बनाने हेतु सरकारी स्कूलों में 10,000 से ज्यादा पौधारोपण किए गए।

इस अवसर पर, उप आयुक्त-रांची ने छात्रों को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए अपना सक्रिय योगदान देने हेतु प्रोत्साहित किया और प्लास्टिक मुक्त रांची की पहल को सहयोग देने हेतु एचपीसीएल के प्रयासों की भी प्रशंसा की।

Sarkaritel
By Sarkaritel October 10, 2019 13:31