NHPC’s 510 MW Teesta-V Power Station, Sikkim conferred with ‘Blue Planet Prize’ by International Hydropower Association (IHA)

Sarkaritel
By Sarkaritel September 23, 2021 20:14

NHPC’s 510 MW Teesta-V Power Station, Sikkim conferred with ‘Blue Planet Prize’ by International Hydropower Association (IHA)


Faridabad, Sept 23: NHPC’s 510 MW Teesta-V Power Station located in the Himalayan State of Sikkim has been conferred with the prestigious Blue Planet Prize by International Hydropower Association (IHA), a London based non-profit membership association operating in 120 countries.

The power station has been built, owned and being operated by NHPC. The award for Teesta-V Power Station was announced on 23rd September, 2021 during the World Hydropower Congress, 2021. The award had been conferred to Teesta-V Power Station based on its sustainability assessment undertaken by a team of accredited lead assessors of IHA in 2019 using the Operation Stage tool of the Hydropower Sustainability Assessment Protocol (HSAP) of IHA.

Speaking on the occasion, A.K. Singh, CMD, NHPC said “The sustainability assessment of Teesta-V Power Station was a learning experience for our organization as it was the first such assessment carried out in India. The results of this assessment highlight the commitment of NHPC towards sustainable power development by involving all the stake holders including the local community and minimizing the impacts on environment. The recognition through this award enhances the image of NHPC on Global platform.  It will encourage and inspire us to achieve higher standards in sustainable hydropower generation”.

The IHA membership includes leading hydropower owners and operators, developers, designers, suppliers and consultants. The IHA Blue Planet Prize is awarded to hydropower projects that demonstrate excellence in sustainable developmentThe Hydropower Sustainability Assessment Protocol (HSAP) is the leading international tool for measuring the sustainability of hydropower projects. It offers a way to benchmark the performance of a hydropower project against a comprehensive range of environmental, social, technical and governance criteria. Assessments are based on objective evidence and the results are presented in a standardized report.


एनएचपीसी के 510 मेगावाट तीस्ता-पावर स्टेशनसिक्किम को इंटरनेशनल हाइड्रोपावर एसोसिएशन
(
IHA) से मिला ब्लू प्लैनेट प्राइज़

 

एनएचपीसी के 510 मेगावाट तीस्ता-V पावर स्टेशन जो कि हिमालयी राज्य सिक्किम में स्थित है,  को 120 देशों में संचालित लंदन स्थित गैर-लाभकारी सदस्यता संघ, इंटरनेशनल हाइड्रोपावर एसोसिएशन (आईएचए) द्वारा प्रतिष्ठित ‘ब्लू प्लैनेट प्राइज़’ से सम्मानित किया गया है। एनएचपीसी के स्वामित्व वाले इस पावर स्टेशन का निर्माण एनएचपीसी द्वारा किया गया है और संचालन भी एनएचपीसी द्वारा किया जा रहा है। तीस्ता-V पावर स्टेशन के लिए इस पुरस्कार की घोषणा 23 सितंबर, 2021 को वर्ल्ड हाइड्रोपावर कांग्रेस, 2021 के दौरान की गई। यह पुरस्कार तीस्ता-V पावर स्टेशन को आईएचए के हाइड्रोपावर सस्टेनेबिलिटी असेसमेंट प्रोटोकॉल (एचएसएपी) के ऑपरेशन स्टेज टूल का उपयोग करके 2019 में आईएचए के मान्यता प्राप्त लीड असेसर्स की एक टीम द्वारा किए गए इसकी सस्टेनेबिलिटी असेसमेंट के आधार पर प्रदान किया गया।

इस अवसर पर बोलते हुए, श्री ए.के. सिंह, सीएमडी, एनएचपीसी ने कहा, “तीस्ता-V पावर स्टेशन का सस्टेनेबिलिटी असेसमेंट हमारे संगठन के लिए सीखने का अनुभव था क्योंकि यह भारत में किया गया पहला ऐसा असेसमेंट था। इस असेसमेंट के परिणाम इस बात को विशिष्ट रूप से उजागर करते हैं कि किस प्रकार एनएचपीसी स्थानीय समुदाय सहित सभी हितधारकों को शामिल करते हुए और पर्यावरण पर प्रभाव को कम करते हुए  विदयुत विकास के लिए प्रतिबद्ध है। इस पुरस्कार से मिले सम्मान से वैश्विक मंच पर एनएचपीसी की छवि में वृद्धि होगी। यह हमें सस्टेनेबेल जलविद्युत उत्पादन में उच्च मानकों को प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित और प्रेरित करेगा ।”

आईएचए के सदस्यों में प्रमुख जलविद्युत ऑनर्स और ऑपरेटर, डेवलपर्स, डिजाइनर, आपूर्तिकर्ता और सलाहकार शामिल हैं। आईएचए ब्लू प्लैनेट पुरस्कार उन जलविद्युत परियोजनाओं को प्रदान किया जाता है जो सतत विकास में उत्कृष्टता प्रदर्शित करती हैं। हाइड्रोपावर सस्टेनेबिलिटी असेसमेंट प्रोटोकॉल (एचएसएपी) जलविद्युत परियोजनाओं की सस्टेनेबिलिटी को मापने के लिए अग्रणी अंतर्राष्ट्रीय साधन है। यह पर्यावरणीय, सामाजिक, तकनीकी और गर्वनेंस के मानदंडों की बृहद श्रृंखला के लिए जलविद्युत परियोजना के प्रदर्शन हेतु मापदण्ड का तरीका प्रदान करता है। मूल्यांकन वस्तुनिष्ठ साक्ष्य पर आधारित होते हैं और परिणाम मानकीकृत रिपोर्ट में प्रस्तुत किए जाते हैं।

Sarkaritel
By Sarkaritel September 23, 2021 20:14