NHPC hosts 45th Annual General Meeting

Sarkaritel
By Sarkaritel September 30, 2021 17:06

NHPC hosts 45th Annual General Meeting


NHPC Limited, hosted its 45th Annual General Meeting (AGM) through video conferencing from its Corporate Office, Faridabad on 29th September 2021. The management of the company recommended a dividend of Rs 1.60/- per equity share for the year 2020-21, which is inclusive of interim dividend of Rs 1.25/- per equity share paid in March 2021. A.K. Singh, CMD, NHPC addressed the shareholders at the AGM wherein members of NHPC Board and Company Secretary, NHPC were also present. CMD highlighted key achievements made by NHPC despite the challenges posed due to CoVID-19 pandemic. Singh informed that NHPC earned its highest ever profit of Rs 3233 crore in financial year 2020-21, which is 7.52 percent higher than the previous year. He further highlighted upon NHPC’s achievements during financial year 2020‑21 on various operational and financial fronts. He said that NHPC had generated 24,471 MUs of electricity against the Design Energy of 23,612 MUs. Singh informed that NHPC achieved its highest ever realization of outstanding dues of Rs. 10,114 crore from beneficiaries and made a contribution of Rs. 1,118.90 crore to Government of India’s exchequer through dividend.

Singh also informed about the successful acquisition of Jalpower Corporation Limited (JPCL) as a wholly owned subsidiary company for the implementation of Rangit-IV HE Project (120 MW) in Sikkim through Corporate Insolvency Resolution Process (CIRP) and elimination of teething problems at Kishanganga Power Station, thereby increasing the annual generation of the power station by 30.86% year-on-year. He further said that in line with the strategic intent to ensure sustained growth, NHPC has formed a Joint Venture Company (Ratle Hydroelectric Power Corporation Limited) with Jammu and Kashmir State Power Development Corporation Limited (JKSPDCL) on June 1, 2021 with equity participation of 51:49 respectively, for implementation of Ratle Hydroelectric Project (850 MW) in the Chenab River Basin in Union Territory of Jammu and Kashmir. In addition, NHPC has acquired 2% equity stake of PTC India Limited (PTC) in Chenab Valley Power Projects Private Limited [Earlier a Joint Venture Company of NHPC (49%), JKSPDCL (49%) and PTC (2%)] in June, 2021, thereby making it a Subsidiary Company of NHPC.

During his address, A.K. Singh, CMD, NHPC also informed Signing of important Memorandum of Understanding (MoU) by NHPC which included MOU with JKSPDCL for execution of Sawalkot (1856 MW), Uri-I (Stage-II) (240 MW), Dulhasti (Stage-II) (258 MW), Hydro-electric Projects (to be implemented by NHPC) and Kirthai-II H.E. Project (930 MW) (to be implemented by CVPPPL) in UT of Jammu & Kashmir, Bihar State Hydroelectric Power Corporation Limited (BSHPC) on June 14, 2021 for implementation of Dagmara HE Project (130.1 MW) in Supaul District of Bihar, Indian Renewable Energy Development Agency Limited (IREDA) with a view to increase NHPC’s footprint in renewable energy in the Country, NTPC Limited for ‘cooperation in overseas power sector’ to facilitate taking up project development, capacity building, O&M, RMU and other consultancy assignments outside India and with PFC Limited to facilitate in expanding NHPC’s energy portfolio in development of Hydroelectric Power Projects and acquisition of assets through NCLT.

CMD, NHPC also highlighted that during the first quarter of current financial year 2021-22, the net profit of NHPC was Rs.912.26 crore thereby registering a growth of 26% as compared to first quarter of previous year.

Various queries of members regarding performance of the Company were also addressed at the AGM.


एनएचपीसी की 45वीं वार्षिक आम बैठक सम्पन्न

श्री ए.के. सिंहसीएमडीएनएचपीसी के साथ श्री वाई.के. चौबेनिदेशक (तकनीकी)श्री आर.पी.गोयलनिदेशक (वित्त)श्री बिश्वजीत बासु, निदेशक (परियोजनाएं) और श्रीमती रूपा देबकंपनी सचिवएनएचपीसी  29 सितंबर 2021 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित एनएचपीसी की 45वीं वार्षिक आम बैठक में।

एनएचपीसी लिमिटेड ने 29 सितंबर, 2021 को अपने निगम मुख्यालय, फरीदाबाद से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अपनी 45वीं वार्षिक आम बैठक (एजीएम) की मेजबानी की। कंपनी के प्रबंधन ने वर्ष 2020-21 के लिए              रु. 1.60/- प्रति इक्विटी शेयर का लाभांश की सिफारिश की,जिसमें मार्च, 2021 में भुगतान किए गए रु.1.25/- प्रति शेयर इक्विटी का अंतरिम लाभांश भी शामिल है। श्री ए.के. सिंह, सीएमडी, एनएचपीसी ने एजीएम में शेयरधारकों को संबोधित किया, जिसमें एनएचपीसी बोर्ड के सदस्यों के साथ एनएचपीसी की कंपनी सचिव भी उपस्थित रही । सीएमडी ने कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न चुनौतियों के बावजूद, एनएचपीसी  द्वारा की गई महत्वपूर्ण उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। श्री सिंह ने बताया कि एनएचपीसी ने वित्तीय वर्ष 2020-21 में अब तक का सबसे अधिक 3,233 करोड़ रुपये का लाभ अर्जित किया है, जो पिछले वर्ष से 7.52% अधिक है।

उन्होंने वित्तीय वर्ष 2020-21 के दौरान विभिन्न प्रचालन और वित्तीय मोर्चों के संबंध में एनएचपीसी की उपलब्धियों का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि एनएचपीसी ने 23,612 एमयू की डिजाइन ऊर्जा के मुकाबले 24,471 एमयू विद्युत का उत्पादन किया है। श्री सिंह ने बताया कि एनएचपीसी ने लाभार्थियों से 10,114 करोड़ रुपये की बकाया राशि की अब तक की सबसे अधिक वसूली प्राप्त की है और लाभांश के माध्यम से भारत सरकार के खजाने में 1,118.90 करोड़ रुपये का अंशदान दिया है। श्री सिंह ने कॉरपोरेट इन्साल्वन्सी  रेज़लूशन  प्रासेस (सीआईआरपी) के माध्यम से सिक्किम में रंगित-IV जलविद्युत परियोजना (120 मेगावाट) के कार्यान्वयन के लिए पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी के रूप में जलपावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (जेपीसीएल) का सफल अधिग्रहण और किशनगंगा पावर स्टेशन में विद्युत उत्‍पादन शुरू करने में होने वाली आरंभिक समस्याओं का समाधान, जिसके फलस्वरूप पावर स्टेशन के वार्षिक उत्पादन में वर्ष दर वर्ष 30.86% की वृद्धि होने की भी जानकारी दी।

उन्होंने आगे यह भी कहा कि सतत विकास सुनिश्चित करने के लिए  कार्यनीतिक इच्‍छाशक्‍ति के अनुरूप, केंद्र शासित प्रदेश जम्मू व कश्मीर में चिनाब नदी बेसिन में रतले जलविद्युत परियोजना (850 मेगावाट) के कार्यान्वयन के लिए एनएचपीसी और जम्मू व कश्मीर राज्य विद्युत विकास निगम लिमिटेड (जेकेएसपीडीसीएल)  की क्रमशः 51:49 की इक्विटी भागीदारी के साथ 1 जून, 2021 को एक संयुक्त उद्यम कंपनी (रतले हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड) का गठन किया  गया है। इसके अतिरिक्त, एनएचपीसी ने जून, 2021 में चिनाब वैली पावर प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड [पहले एनएचपीसी (49%), जेकेएसपीडीसीएल (49%) और पीटीसी (2%) की एक संयुक्त उद्यम कंपनी] में पीटीसी इंडिया लिमिटेड (पीटीसी) की 2% इक्विटी हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया है, जिससे यह एनएचपीसी की सहायक कंपनी बन गई।

अपने संबोधन के दौरान, श्री ए.के. सिंह, सीएमडी, एनएचपीसी ने यह भी जानकारी दी कि एनएचपीसी द्वारा महत्वपूर्ण समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए, जिसमें केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर में सावलकोट (1856 मेगावाट), उड़ी- I (स्टेज- II) (240 मेगावाट), दुलहस्ती (स्टेज-II) (258 मेगावाट), जलविद्युत परियोजनाओं (एनएचपीसी द्वारा कार्यान्वित की जाने वाली) और किरथई-II जलविद्युत परियोजना (930 मेगावाट) (सीवीपीपीपीएल द्वारा कार्यान्वित की जाने वाली) के निष्पादन के लिए जेकेएसपीडीसीएल के साथ समझौता ज्ञापन, बिहार के सुपौल जिले में डागमारा जलविद्युत परियोजना (130.1 मेगावाट) के कार्यान्वयन के लिए 14 जून, 2021 को बिहार स्‍टेट हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीएसएचपीसी) के साथ समझौता ज्ञापन, देश में अक्षय ऊर्जा में एनएचपीसी की पहुंच को बढ़ाने के उद्देश्‍य से इंडियन रिन्‍युबल एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी लिमिटेड (आईआरईडीए) के साथ समझौता ज्ञापन और परियोजना विकास, क्षमता निर्माण, ओ एंड एम, आरएमयू और भारत के बाहर अन्य परामर्श कार्य के कार्य को सुगम बनाने के लिए ‘विदेशी विद्युत क्षेत्र में सहयोग’ हेतु एनटीपीसी लिमिटेड के साथ समझौता ज्ञापन और एनसीएलटी के माध्यम से हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्रोजेक्ट्स के विकास और परिसंपत्तियों के अधिग्रहण से एनएचपीसी के ऊर्जा पोर्टफोलियो के विस्तार को सुगम बनाने के लिए पीएफसी लिमिटेड के साथ समझौता ज्ञापन शामिल है।

सीएमडी, एनएचपीसी ने यह भी बताया कि चालू वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही के दौरान, एनएचपीसी का शुद्ध लाभ 912.26 करोड़ रुपये था, जिसमें पिछले वर्ष की पहली तिमाही की तुलना में 26% की वृद्धि दर्ज की गई। एजीएम में कंपनी के निष्‍पादन के संबंध में सदस्यों के विभिन्न प्रश्नों का भी समाधान किया गया।

Sarkaritel
By Sarkaritel September 30, 2021 17:06

Search the Website

Advertiser’s Logos

Water Conservation

जब कभी आप वाशिंग मशीन में कपड़े धोने जाते हैं, तो ऐसे वक्त वाशिंग मशीन के पूरे लिमिट का इस्तेमाल करें। उन में जितने कपड़ों को एक टाइम पर धोया जा सकता है उतने कपड़ों को धोए।

Sarkaritel.com Interview with U P Singh (IAS), Secretary, Ministry of Jal Shakti & Drinking Water & Sanitation by Ameya Sathaye, Publisher & Editor-in-Chief, Sarkaritel.com

HEALTH PARTNER