NHPC conferred with various awards under Rajbasha Kirti Puruskar

Sarkaritel
By Sarkaritel September 14, 2021 17:42

NHPC conferred with various awards under Rajbasha Kirti Puruskar


NHPC’s Rajbhasha journal ‘Rajbasha Jyoti’ has been awarded ‘First Prize’ under ‘Rajbhasha Kirti Puruskar (Griha Patrika)’ in Region ‘A’ by Ministry of Home Affairs, Govt. of India for the year 2019-20 under ‘Rajbhasha Kirti Puruskar’ scheme. Besides this, NHPC has also been awarded Second Prize for commendable work in implementation of Rajbhasha under Rajbasha Kirti Puruskar scheme.

The award was received from Union Home Minister Amit Shah by A.K. Singh, CMD, NHPC during Hindi Diwas ceremony organized at Vigyan Bhawan, New Delhi on 14th September 2021. Ministers of State for Home Affairs Nityanand Rai, Ajay Kumar Mishra and Nisith Pramanik were also present on the occasion. Dr. Rajbir Singh, General Manager (Rajbhasha), NHPC was also awarded for his article ‘Vedon mein Paryavaran Chetna’ under the ‘Rajbhasha Gaurav Puraskar’, the highest award given to writers for outstanding articles for the year 2019-20.

Rajbhasha Kirti Puraskar is the highest award given by the Govt. of India in the field of implementation of Official Language. NHPC has won this prestigious award for the ninth time for outstanding implementation of Rajbhasha amongst Public Sector Undertakings.

Previously, NHPC has received First Prize for the years 2008-09, 2009-10, 2011-12, 2014-15 and 2016-17 and Second Prize for the years 2010-11, 2012-13 and 2015-16. NHPC’s Official Language Magazine ‘Rajbhasha Jyoti’ has received this award for the second time. Earlier, Rajbhasha Jyoti had been awarded Second Prize for the year 2016-17.

Along with the development and generation of Hydropower, NHPC has also made remarkable progress in the field of Rajbhasha Hindi. Keeping in view the commendable achievements of NHPC in implementation of Rajbhasha, it has been conferred with several Rajbhasha awards at national level.


एनएचपीसी विभिन्न राजभाषा कीर्ति पुरस्कारों से सम्मानित

एनएचपीसी की राजभाषा पत्रिका राजभाषा ज्योति’ को गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा वर्ष 2019-20 के लिए भारत सरकार के सर्वोच्च राजभाषा कीर्ति पुरस्कार (गृह पत्रिका) के अंतर्गत ’ क्षेत्र में प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया है। इसके अतिरिक्त, एनएचपीसी को उत्कृष्ट राजभाषा कार्यान्वयन के लिए राजभाषा कीर्ति पुरस्कार योजना के अंतर्गत द्वितीय पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है। 

यह पुरस्कार केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह के कर-कमलों से श्री ए.के. सिंहसीएमडी, एनएचपीसी ने 14 सितंबर, 2021 को विज्ञान भवन में आयोजित हिंदी दिवस समारोह में ग्रहण किया । इस अवसर पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री श्री नित्यानंद राय, श्री अजय कुमार मिश्रा और श्री निशिथ प्रामाणिक  भी उपस्थित थे। साथ ही, वर्ष 2019-20 के लिए उत्कृष्ट लेखों के लिए लेखकों को दिए जाने वाले सर्वोच्च पुरस्कार राजभाषा गौरव पुरस्कार के अंतर्गत डॉ. राजबीर सिंह, महाप्रबंधक (राजभाषा) को उनके लेख वेदों में पर्यावरण चेतना के लिए पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। 

राजभाषा कीर्ति पुरस्कार राजभाषा कार्यान्वयन के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला सर्वोच्च पुरस्कार है । सार्वजनिक उपक्रमों के बीच उत्कृष्ट राजभाषा कार्यान्वयन के लिए एनएचपीसी को यह प्रतिष्ठित पुरस्कार नौवीं बार प्रदान किया गया है । उल्लेखनीय है कि एनएचपीसी को इससे पहले सार्वजनिक उपक्रमों के बीच सर्वोत्कृष्ट राजभाषा कार्यान्वयन के लिए वर्ष 2008-09, 2009-102011-122014-15 और 2016-17 के लिए प्रथम तथा वर्ष 2010-112012-13 और 2015-16 के लिए द्वितीय पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं। इसके अतिरिक्तराजभाषा कीर्ति पुरस्कार (गृह पत्रिका) के अंतर्गत राजभाषा ज्योति को भी यह पुरस्कार दूसरी बार प्रदान किया गया है । इससे पहले वर्ष 2016-17 के लिए राजभाषा ज्योति को द्वितीय पुरस्कार प्रदान किया गया था ।  

एनएचपीसी ने जलविद्युत उत्पादन और विकास के साथ- साथ राजभाषा हिंदी के क्षेत्र में भी गुणात्मक प्रगति की है । राजभाषा कार्यान्वयन के क्षेत्र में एनएचपीसी की उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए इसे अन्य अनेक राष्ट्रीय स्तर के राजभाषा पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया है ।

Sarkaritel
By Sarkaritel September 14, 2021 17:42

Search the Website

Advertiser’s Logos

Water Conservation

पानी पृथ्वी पर जीवन के लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है, पानी के बिना पृथ्वी पर जीवन नहीं रह सकता।

Sarkaritel.com Interview with U P Singh (IAS), Secretary, Ministry of Jal Shakti & Drinking Water & Sanitation by Ameya Sathaye, Publisher & Editor-in-Chief, Sarkaritel.com

HEALTH PARTNER