Ministry of Power organizes Workshop on ‘Hydropower Development’

Sarkaritel
By Sarkaritel September 18, 2018 07:43


R.K. Singh, Minister of State (IC) for Power and New & Renewable Energy, Government of India inaugurating workshop on ‘Hydropower Development’ in the presence of Ajay Kumar Bhalla, Secretary (Power) Government of India, Aniruddha Kumar, Joint Secretary (Hydro), Government of India, P.D. Siwal, Member (Hydro), CEA and Balraj Joshi, CMD, NHPC.

Keeping in view the importance of hydropower, the Ministry of Power, Government of India in association with NHPC Limited, India’s premier hydropower company organized a one-day Workshop on ‘Hydropower Development’ at India Habitat Centre, New Delhi on 17th September 2018. The workshop was inaugurated by R.K. Singh, Union Minister of State (IC) for Power and New & Renewable Energy, Government of India in the presence of Ajay Kumar Bhalla, Secretary (Power) Government of India, Aniruddha Kumar, Joint Secretary (Hydro), Government of India, P.D. Siwal, Member (Hydro), CEA and Balraj Joshi, CMD, NHPC.

The Minister expressed his commitment to promote Hydropower sector and said that hydropower can lay the foundation for a green economy. He also stressed upon the need for rejuvenating our rivers. While delivering the keynote address, A.K. Bhalla, Secretary (Power) Government of India said that the workshop has been organized for getting expert inputs to address key concerns such as land acquisition, contract related issues, time and cost overruns etc.

Aniruddha Kumar, Joint Secretary (Hydro), Government of India highlighted hydropower as a perpetual and renewable source of energy. Balraj Joshi, CMD, NHPC while sharing the rich experience of NHPC in hydropower development highlighted the key factors as administrative, techno-commercial, environmental and various clearance related issues that arise during execution of hydropower projects.

N.K. Jain, Director (Personnel) NHPC delivered the vote of thanks at the valedictory session and expressed his gratitude to the Ministry of Power for their encouragement and support to NHPC in organizing the workshop on Hydropower Development.

The workshop witnessed participation of key dignitaries from leading power sector organizations/PSUs and other prestigious national and international organizations including Ministry of Power, CWC, CEA, NHPC, THDC, NEEPCO, SJVNL, POSOCO, BBMB, World Bank, Norwegian Centre for Excellence on Smart Grids and Oakridge Energy. The workshop was highly successful in providing a platform for brain-storming discussions on key issues and challenges related to hydropower development.


विद्युत मंत्रालय द्वारा जलविद्युत विकास पर कार्यशाला का आयोजन

जलविद्युत के महत्व को ध्यान में रखते हुए विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार ने एनएचपीसी लिमिटेड (भारत की अग्रणी जल विद्युत कंपनी) केसहयोग से 17 सितंबर 2018 को इंडिया हैबिटेट सेंटर, नई दिल्ली में ‘जलविद्युत विकास’ पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया। इसकार्यशाला का उद्घाटन माननीय केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), विद्युत  नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा श्री आर.के. सिंह द्वारा सचिव (विद्युत) श्री अजय कुमार भल्ला, संयुक्त सचिव (हाइड्रो) श्री अनिरुद्ध कुमार, सदस्य (हाइड्रो), सीईए श्री पी.डी सिवाल और एनएचपीसी के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक श्री बलराज जोशी की उपस्थिति में किया गया ।

इस अवसर पर माननीय मंत्री महोदय ने जलविद्युत क्षेत्र को बढ़ावा देने के प्रति अपनी प्रतिबद्धता प्रकट की और कहा कि जलविद्युत एक हरितअर्थव्यवस्था का आधार बन सकता है । माननीय मंत्री महोदय ने हमारी नदियों के कायाकल्प करने की आवश्यकता पर बल दिया । सचिव(विद्युत) भारत सरकार, श्री ए. के. भल्ला ने अपने मुख्य संबोधन में कहा कि इस कार्यशाला का आयोजन जलविद्युत क्षेत्र में भूमि अधिग्रहण,संविदाओं से संबंधित मामलो तथा समय और लागत अधिवहित जैसे विभिन्न मुद्दों को हल करने हेतु विशेषज्ञों की राय प्राप्त करने के उद्देश्य से किया गया है। संयुक्त सचिव (हाइड्रो), भारत सरकार श्री अनिरुद्ध कुमार ने स्वागत उद्बोधन देते हुए जलविद्युत को ऊर्जा के सतत व नवीकरणीयस्रोत के रूप में उल्लेख किया । एनएचपीसी के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक, श्री बलराज जोशी ने जलविद्युत के क्षेत्र में एनएचपीसी के विस्तृत अनुभवों का उल्लेख करते हुए जलविद्युत परियोजना के क्रियान्वयन में प्रशासनिक, तकनीकी-वाणिज्यिक, पर्यावरणीय तथा विभिन्न अनुमतियों जैसे घटकों का प्रमुखता से उल्लेख किया । समापन सत्र के दौरान एनएचपीसी के निदेशक (कार्मिक) श्री एन.के. जैन ने धन्यवाद ज्ञापन प्रस्तावित किया व जलविद्युत विकास पर इस कार्यशाला के आयोजन में विद्युत मंत्रालय से प्राप्त प्रोत्साहन व समर्थन के प्रति कृतज्ञता प्रकट की ।

इस कार्यशाला में विद्युत मंत्रालय, सीडब्ल्यूसी, सीईए, एनएचपीसी, टीएचडीसी, नीपको, एसजेवीएनएल, पोसोको, बीबीएमबी, विश्व बैंक, नॉर्वेजियनसेंटर फॉर एक्सेलेंस ऑन स्मार्ट ग्रिड और ओक्रिज एनर्जी सहित विद्युत क्षेत्र के प्रमुख संगठनों / पीएसयू और अन्य प्रतिष्ठित राष्ट्रीय औरअंतरराष्ट्रीय संगठनों से प्रमुख गणमान्य व्यक्तियों ने भाग लिया ।  यह कार्यशाला जलविद्युत विकास से संबंधित मुख्य पहलुओं और चुनौतियोंपर विचार-विमर्श व चर्चा करने के लिए एक मंच प्रदान करते हुए अत्यधिक सफल रही।

Sarkaritel
By Sarkaritel September 18, 2018 07:43

Search the Website

Advertiser’s Logo