Rajeev Sharma takes over as CMD of PFC

Sarkaritel
By Sarkaritel October 1, 2016 12:18

Rajeev Sharma takes over as CMD of PFC


01cmd_pfcRajeev Sharma, has taken over the charge of ‘Chairman and Managing Director’ of Power Finance Corporation Ltd (PFC) with effect from 1st October, 2016. Shri Sharma succeeds Shri M.K. Goel who retired on 30th September, 2016 on attaining the age of superannuation.

Prior to joining PFC, Shri Sharma was the Chairman and Managing Director of Rural Electrification Corporation Ltd (REC). Under his dynamic leadership, Shri Sharma helped REC scale greater heights in excellence by doubling the revenue and profits in the last five years. He was Business Today’s choice of ‘Best CEO’ of a PSU. Shri Sharma is considered the architect of Government’s flagship schemes like DDUJY, RGGVY and RAPDRP.

Shri Rajeev Sharma holds B.Tech (Electrical) and Masters Degree in Engineering from IIT Roorkee and also Masters Degree in Business Administration from FMS, Delhi University. Shri Sharma has more than 30 years of experience and has served in various positions in CEA, Ministry of Power, POWERGRID& PFC (as Director, Projects).

In CEA, he was involved with the design, engineering and consultancy of NathpaJhakri HE Project (1500 MW). During his tenure as Deputy Secretary in the Ministry of Power, important projects like 2000 MW Talcher- Kolar HVDC Bipole and Tala Transmission System (first public private partnership) of POWERGRID were approved by the Government. He has also looked after APDRP, Rajiv Gandhi GrameenVidyutikaranYojna (RGGVY) apart from THDCIL, NEEPCO, BBMB and SJVNL.

 


 

श्री राजीव शर्मा ने पीएफसी के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक (सीएमडी) का पदभार संभाला

 

श्री राजीव शर्मा ने आज (दिनांक 1 अक्‍टूबर, 2016 को) पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (पीएफसी) के ‘अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक’ का पदभार संभाल लिया। उन्‍होंने श्री एम के गोयल का स्‍थान लिया है, जो 30 सितंबर, 2016 को अधिवर्षिता की आयु प्राप्‍त करते हुए सेवानिवृत्‍त हो गए।

पीएफसी में कार्यभार ग्रहण करने से पहले श्री शर्मा रूरलइलेक्ट्रिफिकेशनकॉर्पोरेशनलि. (आरईसी) में ‘अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक’ रहे हैं। श्री शर्मा के गतिशील नेतृत्‍व के अंतर्गत आरईसी ने उत्‍कृष्‍टता के नए प्रतिमान स्‍थापित किए। उनके प्रयासों की बदौलत आरईसी का राजस्‍व एवं लाभ पिछले पांच वर्षों में बढ़कर दुगुना हो गया। श्री शर्मा को बिजनेस टुडे द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम श्रेणी में ‘सर्वोत्‍कृष्‍ट सीईओ’ का सम्‍मान प्रदान किया गया। श्री शर्मा कोडीडीयूजेवाई, आरजीजीवीवाई और आर-एपीडीआरपी जैसे सरकार के प्रमुख कार्यक्रमों का निर्माता/रचयिता समझा जाता है।

श्री राजीव शर्मा आईआईटी रूड़की से बी. टैक. (इलेक्ट्रिकल) और इंजीनियरी में स्‍नातकोत्‍तर हैं। आपने दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय के एफएमएस से व्‍यापार प्रबंधन में स्‍नातकोत्‍तर उपाधि भी प्राप्‍त की है। श्री शर्मा ने विद्युत मंत्रालय,केंद्रीयविद्युत प्राधिकरण (सीईए), पावरग्रिड और पीएफसी निदेशक (परियोजनाएं) में 30 वर्ष से अधिक की सेवा के दौरान विभिन्‍न पदों पर कार्य किया है।

केंद्रीयविद्युत प्राधिकरण (सीईए) में उन्‍होंने नाथपाझाकड़ी जल-विद्युत परियोजना (1500 मेगावाट) के  डिजाइन, इंजीनियरी और परामर्शी कार्यों में महत्‍वपूर्ण योगदान दिया। विद्युत मंत्रालय में उप सचिव के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान भारत सरकार द्वारा अनेक महत्‍वपूर्णपरियोजनाओं को मंजूरी दी गई, जिनमें  पावरग्रिड की 2000 मेगावाट की तलचेर-कोलार एचवीडीसी बिपोले और ताला ट्रांसमिशन सिस्‍टम्‍स (प्रथम सार्वजनिक-निजी भागीदारी परियोजना) शामिल हैं। उन्‍होंने टीएचडीसीआईएल, नीपको, और बीबीएमबी तथा एसजेवीएनएल के अतिरिक्‍त एपीडीआरपी, राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना (आरजीजीवी) जैसे कार्यक्रमों की भी देखरेख की है।

 

 

Sarkaritel
By Sarkaritel October 1, 2016 12:18