October 18, 2017   
Check E-mail      New users: sign up

Home » Public Sector News

 

श्री बलराज जोशी, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एनएचपीसी, श्री आर. के. सिंह, माननीय
केन्द्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विद्युत एवं नवीन व नवीकरणीय ऊर्जा, भारत सरकार को
76.43 करोड़ रूपए लाभांश भुगतान बैंक एड्वाइस सौंपते हुए। इस अवसर पर उपस्थित :
श्री अजय कुमार भल्ला, सचिव (विद्युत), भारत सरकार, विद्युत मंत्रालय, श्री रतीश कुमार,
निदेशक (परियोजनाएं), श्री एन. के. जैन, निदेशक (कार्मिक) और श्री डी. चक्रवर्ती, महाप्रबंधक
(वित्त)।

भारत की प्रमुख जल विद्युत कंपनी और भारत सरकार की ‘मिनी रत्न’ श्रेणी-I उपक्रम एनएचपीसी लिमिटेड द्वारा भारत सरकार को जनवरी 2017 में दिए 1402.21 करोड़ रुपए के अंतरिम लाभांश के अतिरिक्त वित्तीय वर्ष 2016-17 के लिए 76.43 करोड़ रुपए के अंतिम लाभांश का भुगतान किया गया है। वित्त वर्ष 2016-17 के लिए संपूर्ण लाभांश 1984.61 करोड़ रूपए में  भारत सरकार का कुल लाभांश हिस्सा 1478.64 करोड़ रुपये है।

27 सितम्बर 2017 को आयोजित 41वीं आम बैठक में कंपनी के सदस्यों ने 0.10/- (यानि @ 1%) रुपए प्रति इक्विटी शेयर की दर से, जिसमें जनवरी 2017 में 1.70/- रुपए प्रति इक्विटी शेयर जोकि अंकित मूल्य का 17% है, की दर से भुगतान किया गया अंतरिम लाभांश शामिल नहीं  है, हेतु मंजूरी दे दी  है। वर्तमान में एनएचपीसी के 7.6 लाख से ज्यादा शेयरधारक हैं और वर्ष 2015-16 के कुल 1660.61 करोड़ रुपए की तुलना में वर्ष 2016-17 में अंतरिम लाभांश को मिलाकर कुल 1984.61 करोड़ रुपए के लाभांश का परिकलन किया गया है। वित्त वर्ष 2016-17 के लिए लाभांश पे-आउट कर पश्चयात लाभ (पैट) का 71% है जोकि वित्त वर्ष 2015-16 के लिए पैट का 68 % था।

पिछले वित्तीय वर्ष के 2429.89 करोड़ की तुलना में वर्ष 2016-17 में एनएचपीसी ने  2795.59 करोड़ रुपए का कर पश्चयात लाभ अर्जित किया है।

76.43 करोड़ रुपए का लाभांश भुगतान बैंक एडवाइस 12 अक्टूबर 2017 को श्री बलराज जोशी, अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक, एनएचपीसी द्वारा श्री आर. के. सिंह, केन्द्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विद्युत एवं नवीन व नवीकरणीय ऊर्जा, भारत सरकार को प्रदान किया गया। इस अवसर पर श्री अजय कुमार भल्ला, सचिव (विद्युत), भारत सरकार तथा एनएचपीसी के श्री रतीश कुमार, निदेशक (परियोजनाएं), श्री एन. के. जैन, निदेशक (कार्मिक), श्री एम. के. मित्तल, निदेशक (वित्त) एवं विद्युत मंत्रालय व एनएचपीसी लिमिटेड के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।