Back to homepage

Water Conservation

भूजल संरक्षण की परंपरागत विधि खेत पर मेड मेड पर पेड़ वर्षा बूंदे जहां गिरे वही रोकें : उमा शंकर पांडे  जल योद्धा

भूजल संरक्षण की परंपरागत विधि खेत पर मेड मेड पर पेड़ वर्षा बूंदे जहां गिरे वही रोकें : उमा शंकर पांडे जल योद्धा

🕔12:36, 12.Jan 2021

छोटे छोटे प्रयोग सदैव समाज में बड़े बदलाव लाए हैं ऋषि और कृषि की परंपरागत भारत भूमि में पुरखों की परंपरागत विधियां आज भी प्रासंगिक बुंदेलखंड के छोटे से गांव जखनी से निकली मेड़बंदी परंपरागत जल संरक्षण विधि आज संपूर्ण

Read Full Article
Rainwater Harvesting for Agriculture

Rainwater Harvesting for Agriculture

🕔09:04, 25.Dec 2019

Mangalore, also known as Mangalagiri, region has ample coconut, areca nut, cashew nut and black pepper plantations. Despite the extreme monsoon, the farmers in this belt face the scarcity of water from February till July. A farmer/agriculturist, Chandra Raj Shetty,

Read Full Article
Strong will needed to develop Jal Shakti

Strong will needed to develop Jal Shakti

🕔12:42, 20.Dec 2019

People should have been taught the importance of water after independence. A widespread movement through the ‘Jal Shakti Abhiyan’ is the exact need of the hour for us to be able to conserve water for future generation. Not that there

Read Full Article
समाज-संस्कृति, लोक उत्सव से जलाशयों के अन्तर्संबंध

समाज-संस्कृति, लोक उत्सव से जलाशयों के अन्तर्संबंध

🕔09:00, 20.Dec 2019

बाढ़ और सूखे के संकट संकटों से जूझते हुए समाज हमेशा अपने जीवट का परिचय देता रहा है। सूखे और अकाल के सबसे कठिनतम दौर राजस्थान के समाज ने झेले हैं। लेकिन समाज ने कभी हिम्मत नहीं हारी और वर्षा

Read Full Article
Hivare Bazar: Seven golden rules of watershed development programmes

Hivare Bazar: Seven golden rules of watershed development programmes

🕔12:36, 15.Dec 2019

Hivare Bazar lies in the drought-prone Ahmednagar district with rainfall 250 to 350 mm. Initially in 1992, almost 90% families lived below poverty line and prior to 1989, faced migration of the villagers to urban areas, high crime rate and

Read Full Article
धरती मां है, जल उसके शरीर का रक्त और जंगल फेफड़े़

धरती मां है, जल उसके शरीर का रक्त और जंगल फेफड़े़

🕔15:20, 10.Dec 2019

वास् तविक स्थिति रू हम सभी जानते हैं कि बुन् दलेखण् ड क्षेत्र अल् प वर्षा वाला क्षेत्र है। यहाँ वर्षा, असमय वर्षा के कारण वर्षभर सूखा ही रहता है। 10-12 वर्षों से अल् प वर्षा और कभी-कभार अति वर्षा

Read Full Article
एवी माॅडलः व्यापक भूमि सुधार एवं जल प्रबंधन की संभावना

एवी माॅडलः व्यापक भूमि सुधार एवं जल प्रबंधन की संभावना

🕔12:29, 10.Dec 2019

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने संबोधन में कई बार इस बात को रेखांकित किया है कि खेत और शरीर एक जैसा है। जैसे शरीर की कमियों की जांॅच के लिये विभिन्न प्रकार की प्रयोगशालाओं का सहारा लिया जाता है, वैसे

Read Full Article
भारत का जल संकट समाधान, नीर-नारी-नदी का सम्मान

भारत का जल संकट समाधान, नीर-नारी-नदी का सम्मान

🕔15:08, 2.Dec 2019

भारत आज सुखाड़, बाढ़ और दुष्काल से ग्रस्त है। आजादी के बाद सुखाड़ क्षेत्र दस गुना बढ़ा है, वहीं बाढ़ क्षेत्र आठ गुना बढ़ा है। लगभग आधी छोटी नदियां मर गई हैं या लुप्त हो गई हैं। भूजल के भंडार

Read Full Article
जल वंचित होने से पहले करें संचित

जल वंचित होने से पहले करें संचित

🕔14:50, 22.Nov 2019

हम सब जानते हैं कि हमारे देश की आधी से ज्यादा जनसंख्या भूमिगत जल पर निर्भर है, पर दुर्भाग्य से भूगर्भ में स्थित इस जल को लेकर आज अधिकांश लोग गलतफहमी का शिकार हैं कि इस भूमिगत जल की उपलब्धता

Read Full Article
जल प्रहरी जो समर्पित है हम सबके लिए, हम भी समर्पित हो जाएं

जल प्रहरी जो समर्पित है हम सबके लिए, हम भी समर्पित हो जाएं

🕔14:44, 20.Nov 2019

जल प्रहरी जीवन के प्रत्येक क्षण को समाज के प्रति समर्पित कर रहे हैं। उनके इस योगदान को राष्ट्रीय मंच पर समूचे ब्रह्रमांड के समक्ष रखा जाए यह यात्रा आधे से ज्यादा भरे गिलास के पानी को व्यर्थ फैलाते देखकर

Read Full Article