प्रधानमंत्री द्वारा हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज का शिलान्यास

Sarkaritel
By Sarkaritel April 27, 2017 20:45

प्रधानमंत्री द्वारा हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज का शिलान्यास


भारत के माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज शिमला, हिमाचल प्रदेश में आयोजित समारोह के दौरान हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज, बिलासपुर काशिलान्यास किया । माननीय प्रधानमंत्री ने यह शिलान्यास हिमाचल प्रदेश के माननीय राज्यपाल श्री आचार्य देवव्रत, माननीय मुख्य मंत्री श्री वीरभद्र सिंह, माननीयकेंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री जगत प्रकाश नड़ड़ा, माननीय नागर विमानन मंत्री श्री अशोक गजपति राजू, माननीय नागर विमानन राज्य मंत्री श्रीजयंत सिन्हा, हिमाचल प्रदेश सरकार के  माननीय परिवहन, खाद्य और नागरिक आपूर्ति और तकनीकी शिक्षा मंत्री श्री जी.एस. बाली, हिमाचल प्रदेश विधानसभामें नेता प्रतिपक्ष, श्री प्रेम कुमार धूमल तथा भारत सरकार और हिमाचल प्रदेश के अधिकारी एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों की गरिमामयी उपस्थिति में किया। इससमारोह में एनएचपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री के.एम.सिंह, एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री गुरदीप सिंह, एनएचपीसी केनिदेशक(तकनीकी) श्री बलराज जोशी, निदेशक(कार्मिक) श्री एन.के.जैन तथा एनएचपीसी व एनटीपीसी के अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण भी उपस्थित थे।

हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज की 146 करोड़ रुपये की लागत से स्थापना की जा रही है, जिसमें से 75 करोड़ रूपए का निवेश एनएचपीसी और एनटीपीसी द्वाराऔद्योगिक भागीदारों के रूप में किया जा रहा है। राज्य सरकार ने इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना के लिए मुहाल बन्दला, तहसील सदर, जिला बिलासपुर में62.06 बीघा (12.40 एकड़) भू-भाग प्रदान किया है। इंजीनियरिंग कॉलेज के खर्चों को चलाने के लिए एनएचपीसी और एनटीपीसी आवश्यकतानुसार 25 करोड़रूपए तक के दूसरे अंशदान की किश्त जारी करने पर भी विचार करेंगे।

हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज में जलविद्युत पर संकेन्द्रित बी.टेक पाठ्यक्रम होंगे जिनमें मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग औरकंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग शामिल हैं। प्रत्येक पाठ्यक्रम में 60 छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा। कॉलेज हिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय से संबद्ध होगा।पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम और पीएचडी कार्यक्रम भी चौथे/छटे वर्ष से सहयोगी अनुसंधान कार्यक्रम और प्रायोजित अनुसंधान कार्यक्रम के रूप में चलाया जाएगा।

 

Sarkaritel
By Sarkaritel April 27, 2017 20:45